Menu

मुंबई: साधारण रहा दही-हांडी का त्योहार, भव्य उत्सव की बजाए आयोजकों ने की बाढ़ पीड़ितों की मदद

मुंबई: मुंबई में इस बार दही हांडी का उत्सव साधारण तरीके से मनाया गया. प्रदेश में आई बाढ़ के कारण आयोजकों ने भव्य तरीके से दही-हांडी मनाने की बजाए बाढ़ पीड़ितों की मदद की. हालांकि, प्रदेश के विभिन्न जगहों पर दही-हांडी उत्सव मनाने के दौरान मुंबई में 119 और ठाणे में 14 गोविंदा जख्मी भी हो गए. बीएमसी के एक अधिकारी ने बताया कि अधिकतर गोविंदा दही हांडी तोड़ने के लिए बनाए गए अपने मानव पिरामिड गिरने की वजह से जख्मी हुए हैं.
%e0%a4%ae%e0%a5%81%e0%a4%82%e0%a4%ac%e0%a4%88-%e0%a4%b8%e0%a4%be%e0%a4%a7%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a4%a3-%e0%a4%b0%e0%a4%b9%e0%a4%be-%e0%a4%a6%e0%a4%b9%e0%a5%80-%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%a1

नगर निकाय के एक अधिकारी ने बताया कि 26 गोविंदाओं को मुंबई के नगर निकाय के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है जबकि बाकी को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई. नगर निकाय के एक अधिकारी ने बताया कि ठाणे में मानव पिरामिड से गिरने की वजह से 10 साल के एक बच्चे की पैर की हड्डी टूट गई है. उसका इलाज चल रहा है. अधिकारी ने बताया कि ठाणे में ही, एक पिरामिड एक किशोरी पर गिर गया, जिस वजह से वह घायल हो गई.

जन्माष्टमी उत्सव का हिस्सा है दही हांडी 

बता दें कि महाराष्ट्र में दही हांडी जन्माष्टमी उत्सव का हिस्सा है जिसमें युवा जिन्हें गोविंदा कहते हैं रंगबिरंगे कपड़ों में मानव पिरामिड बनाकर दही की हांडी फोड़ने की कोशिश करते हैं. महिला गोविंदाओं के संगठन ‘गोरखनाथ महिला दही हांडी पाठक मंडल’ ने फैसला किया कि उसकी सदस्य केवल परंपरा को कायम रखने के लिए त्योहार मनाएंगी. मंडल के संस्थापक भाऊ कोरेगांवकर ने कहा, ‘‘हम बाढ़ की वजह से मुश्किलों का सामना कर रहे अपने भाइयों और बहनों को नहीं भूल सकते. हमारी महिलाएं आयोजन स्थल पर जाएंगी और केवल दही हांडी फोड़ेंगी.’’

बाढ़ के कारण फीका रहा आयोजन 

भव्य दही हांडी उत्सव आयोजित करने के लिए चर्चित रहे बीजेपी नेता राम कदम ने भी इस बार साधरण तरीके से उत्सव मनाने का फैसला किया. उन्होंने कहा, ‘‘हम इस उत्सव को संस्कृति का हिस्सा होने की वजह से मनाएंगे, लेकिन यह साधारण तरीके से होगा. दिखावे पर पैसे खर्च करने की जरूरत नहीं है. बचे हुए पैसे राज्य में आई बाढ़ से प्रभावित भाई-बहनों की मदद के लिए भेजे जाएंगे.’’ मुंबई पुलिस ने लेागों से तेज आवाज में गाने नहीं बजाने को कहा है. दादर, वर्ली, वडाला, घाटकोपर, अंधेरी, लोखंडवाला, बोरीवली समेत कई इलाकों में त्योहार मनाया गया. जन्माष्टमी के अवसर पर गिरगांव में स्थित इस्कॉन के राधा गोपीनाथ मंदिर को सजाया गया और भक्त दर्शन के लिए देर तक कतार में इंतजार करते रहे. इस्कॉन से जुड़े राधानाथ स्वामी ने कहा कि भगवान कृष्ण की शिक्षाएं सदियों से प्रासंगिक हैं. डोम्बिवली में, पुलिस ने ईवीएम की आकृति वाली दही हांडी जब्त की है. इसे कथित रूप से महाराष्ट्र नव निर्माण सेना के कार्यकर्ताओं ने लगाया था.


^