Menu

ओडिशा: ‘डांसिंग सर’ का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल, अनोखे टीचिंग स्टाइल ने सभी को बनाया दीवाना

ओडिशा के कोरापुर जिले के लम्तापुर प्राइमरी स्कूल के एक टीचर का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर सुर्खियां बटोर रहा है. प्रफुल्ल कुमार पाथी नाम के इन शिक्षक का बच्चों को पढ़ाने का तरीका इतना अनोखा है कि जो कोई भी इस वीडियो को देख रहा है वो सराहना किए बिना नहीं रह पा रहा है. वीडियो में नजर आ रहा है कि प्रफुल्ल कुमार पाथी बच्चों को नाच नाच कर कोई कविता याद करवा रहे हैं. बच्चे भी उनके पीछे पीछे उसी एक्शन में कविता की पंक्तियों को दोहरा रहे हैं.
%e0%a4%93%e0%a4%a1%e0%a4%bf%e0%a4%b6%e0%a4%be-%e0%a4%a1%e0%a4%be%e0%a4%82%e0%a4%b8%e0%a4%bf%e0%a4%82%e0%a4%97-%e0%a4%b8%e0%a4%b0-%e0%a4%95%e0%a4%be-%e0%a4%b5%e0%a5%80%e0%a4%a1%e0%a4%bf%e0%a4%af

डांसिंग सर के नाम से मशहूर 56 साल के प्रफुल्ल कुमार पाथी 2008 से इस खास अंदाज से बच्चों को पढ़ा रहे हैं. उस दौरान सर्व शिक्षा अभियान से जुड़े हुए थे. एक अंग्रेजी अखबार से बात करते हुए पाथी ने कहा, ”मैंने पाया कि शिक्षण को मज़ेदार बनाया जाना चाहिए न कि नीरस. इसलिए मैंने अपनी शिक्षा का तरीका ईजाद किया. एक बार जब मैंने उन्हें गीत और नृत्य के माध्यम से पढ़ाना शुरू किया, तो बच्चे पढ़ाई में अधिक रुचि ले रहे थे. बच्चे स्कूल आने में ज्यादा झुकाव दिखा रहे हैं.’

पाथी ने अपने सभी पाठों को एक गीत के रूप में परिवर्तित कर लिया है. पाथी के स्कूल के हेड मास्टर ने कहा, ”जब मैं कक्षा में प्रवेश करता हूं, तो मैं छात्रों को शारीरिक रूप से सक्रिय रखने का प्रयास करता हूं क्योंकि मिड डे मील के बाद बच्चों के सो जाने की संभावना होती है.” उसी स्कूल में कार्यरत एक सहायक शिक्षक संजय पांडा ने कहा, ”पाथी के इस तरीके से पढ़ाने के कारण स्कूल छोड़ने वाले बच्चों की संख्या में कमी आयी है. कोरापुट के स्कूलों में आमतौर पर बच्चे प्राथमिक शिक्षा पूरी करने से पहले ही स्कूल छोड़ देते हैं लेकिन पढ़ाई के इस नए तरीके के बाद बच्चों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है.”


^