Menu

जानें- महाराष्ट्र में कांग्रेस के दिग्गज नेता कृपाशंकर के इस्तीफे के पीछे की असली कहानी

मुंबई: लगातार हो रहे दलबदल से पीड़ित महाराष्ट्र कांग्रेस को एक और झटका लगा है. मुंबई से कांग्रेस के दिग्गज नेता कृपाशंकर सिंह ने भी पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. सिंह मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष और महाराष्ट्र के गृह राज्यमंत्री रह चुके हैं. मुंबई के उत्तर भारतीय राजनेताओं के बीच वे एक बड़ा चेहरा माने जाते हैं. हालांकि कृपाशंकर सिंह ने ये कहते हुए कांग्रेस से इस्तीफा दिया है कि वो अनुच्छेद 370 हटाये जाने को लेकर कांग्रेस पार्टी के रूख से सहमत नहीं थे, लेकिन कांग्रेस से इस्तीफे के पीछे असली कारण कुछ और माना जा रहा है. सियासी हलकों में चर्चा है कि वे जल्द ही बीजेपी की सदस्यता ले सकते हैं.
%e0%a4%9c%e0%a4%be%e0%a4%a8%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%ae%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%b7%e0%a5%8d%e0%a4%9f%e0%a5%8d%e0%a4%b0-%e0%a4%ae%e0%a5%87%e0%a4%82-%e0%a4%95%e0%a4%be%e0%a4%82

बीजेपी- शिवसेना में शामिल हो रहे हैं कांग्रेस-NCP के नेता

महाराष्ट्र में इन दिनों कांग्रेस और एनसीपी जैसी विपक्षी पार्टियों के कई दिग्गज नेता बीजेपी या शिवसेना में शामिल हो गये हैं. इनमें से कई ऐसे चेहरे भी हैं जो विवादों में रहे या जिनके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हो रखे हैं. राज्य के सियासी गलियारों में माना जा रहा है कि कई नेताओं ने खुद को जेल जाने से बचाने के लिये बीजेपी की सदस्यता ले ली. महाराष्ट्र में एक नया मुहावरा बन गया– ‘या तो तुम जेल में हो या फिर बीजेपी में हो’. कृपाशंकर सिंह के इस्तीफे को भी कुछ इसी संदर्भ में देखा जा रहा है. कृपाशंकर सिंह पर आय से ज्यादा संपत्ति रखने और दूसरे भ्रष्टाचार से जुडे मामले दर्ज हुए. इन मामलों की वजह से उन्हें कांग्रेस में हाल के सालों में दरकिनार कर दिया गया था और पार्टी अहम निर्णय करते वक्त उन्हें तवज्जो नहीं दे रही थी.

कृपाशंकर सिंह का क्या कहना है?

हालांकि कृपाशंकर सिंह का कहना है कि उनके खिलाफ चल रहे तमाम आपराधिक मामलों की जांच खत्म हो चुकी है, लेकिन आशंका थी कि राज्य की बीजेपी-शिवसेना सरकार जब चाहे तब किसी भी मामले की फाईल फिर खुलवा सकती है. यही वजह रही कि सिंह ने बीजेपी और शिवसेना के नेताओं के साथ हाल के दिनों में करीबी बनानी शुरू कर दी. वे अक्सर मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के आधिकारिक निवास वर्षा बंगले पर नजर आते थे. फडणवीस और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे हाल ही में उनके घर गणपति दर्शन के लिये भी आये. इन मुलाकातों से ही संकेत मिलने लगे थे कि सिंह कांग्रेस की राह छोडकर दूसरी पार्टी में शामिल होने वाले हैं.

मुंबई में एक बड़ी तादाद उत्तर भारतीय वोटरों की है. कृपाशंकर सिंह की शक्ल में बीजेपी को एक मुंबई में एक बडा उत्तर भारतीय चेहरा मिल जायेगा. सूत्रों के मुताबिक कृपाशंकर सिंह जल्द ही बीजेपी की सदस्यता लेने वाले हैं लेकिन वे आगामी विधानसभा चुनाव नहीं लडेंगे. अपनी जगह वे मुंबई के किसी पश्चिमी उपनगर से अपने बेटे संजय सिंह को टिकट दिलाना चाहते हैं.


^