Menu

Air Force Day 2019: हिंडन एयरबेस पर अभिनंदन और बालाकोट एयर स्ट्राइक में शामिल रहे जवानों ने उड़ाए लड़ाकू विमान

भारतीय वायुसेना के जांबाजों ने हिंडन एयरबेस पर दुनिया को देश की ताकत का एहसास कराया. आज वायुसेना अपना 87वां स्थापना दिवस मना रहा है. इसी मौके पर एयरशो का आयोजन किया गया. यह एयरशो बेहद खास रहा. दरअसल, बालाकोट एयर स्ट्राइक को अंजाम देने वाले एयर वॉरियर्स ने मिराज 2000 एयरक्राफ्ट और सुखोई 30 एमकेआई लड़ाकू विमान उड़ाए. यही नहीं एयरस्ट्राइक के अगले दिन पाकिस्तान के विमान एफ 16 को मार गिराने वाले विंग कमांडर अभिनंदन ने भी मिग-21 बाइसन से करतब दिखाया. अपाचे और चिनूक हेलीकॉप्टर (चॉपर) का भी प्रदर्शन किया गया.
air-force-day-2019-%e0%a4%b9%e0%a4%bf%e0%a4%82%e0%a4%a1%e0%a4%a8-%e0%a4%8f%e0%a4%af%e0%a4%b0%e0%a4%ac%e0%a5%87%e0%a4%b8-%e0%a4%aa%e0%a4%b0-%e0%a4%85%e0%a4%ad%e0%a4%bf%e0%a4%a8%e0%a4%82%e0%a4%a6

इससे पहले वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने 51 स्क्वॉड्रन और 9 स्क्वॉड्रन को फरवरी में पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी शिविरों पर हवाई हमले में उनकी भूमिका के लिए सम्मानित किया. भारतीय वायुसेना की स्थापना आठ अक्टूबर 1932 को हुई थी. हर वर्ष इस दिन हिंडन बेस में वायुसेना दिवस मनाया जाता है. इस कार्यक्रम में वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया, थल सेना प्रमुख बिपिन रावत और नेवी चीफ कमरबीर सिंह समेत सेना के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे. सचिन तेंदुलकर भी वायुसेना की ड्रेस में मौजूद थे.

आरकेएस भदौरिया ने आज बालाकोट एयरस्ट्राइक का जिक्र करते हुए कहा कि आतंकवादी हमलों से निपटने के सरकार के तरीके में बहुत बड़ा बदलाव आया है. उन्होंने कहा, ”बालाकोट में एयर स्ट्राइक करना एक राजनीतिक संकल्प था. आतंकी हमलों से निपटने के सरकार के तरीकों में बदलाव आया है.”


^